How to start a Business | Being an Entrepreneur in India

How to start a Business.

फ्रीडम करेज और फैशन यह तीन शब्द मेरे दिमाग में आते हैं जब मैं Entrepreneur के बारे में सुनता हूं तो आप अपना खुद का बिजनेस खोलना के लिए बहुत सारी  चीजों से इंस्पायर हो सकते हो हमारे प्रधानमंत्री तो दोस्तों कोई भी बिजनेस या स्टार्टअप करने के लिए सबसे पहले स्टेप आपके लिए है

how

की आपको एक्जेक्टली पता होना चाहिए की आप करना क्या चाहते हैं आपका आइडिया क्या है यहां पे बहुत से लोग जो स्टार्टअप करने की सोचते हैं उनके दिमाग में आते हैं की हमें कुछ ऐसा आइडिया सोचना है जो आज तक किसी ने भी ना सोचा हो लेकिन मेरे हिसाब से गलत सोच है इसके दो रीजंस हैं एक तो ये है की एक ऐसा आइडिया सोचना जो आज तक किसी ने भी ना सोचा और इसके बहुत ही कम चांसेस है की आपके दिमाग में कोई ऐसी चीज आए हैं क्योंकि देश भर में एक बिलियन से ज्यादा लोग हैं

बहुत कम चांसेस है इसके और दूसरा और ज्यादा इंपॉर्टेंट रीजन की आपको ये नहीं करना चाहिए एक ऐसा बिजनेस एक नई फील्ड में जहां पे कस्टमर बेस एस्टेब्लिश नहीं है एक सोर्स ऑफ रिवेन्यू नहीं है किसी ने आपसे पहले ट्रायल और रन नहीं किया है वहां पे एक्सपेरिमेंट नहीं किया है की इस फील्ड में बिजनेस करने से ऐसा रिवेन्यू आता है ऐसी प्रॉब्लम्स हम फेस करते हैं तो एक बहुत ही नई चीज है यहां पे बहुत ही रिस्की कम है ये इसलिए मैं कहूंगा आपको एक ऐसा आइडिया सोने की जरूर नहीं है जो आप किसी और ने ना सोचा हो इनफैक्ट आपको ये सोने की जरूर है की आपको खुद क्या करना पसंद है

  STEP 1 : IDEA AND PLANNING

  • आपको यहां पर मैं रिकमेंड करूंगा की आप दो चीजों पर फोकस कीजिए पहले चीज की
  • आपका पैशन क्या है आपका इंटरेस्ट क्या है
  • आपको क्या करने में मजा आता है

और दूसरी चीज की आप किस तरह से लोगों को वैल्यू दे सकते हैं लोगों को अपने कम से किस तरह से बेनिफिट पहुंच सकते हैं इतनी वैल्यू दे सकते हैं की लोग आपको उसके बदले पैसे देने को तैयार हो जाए जब आपने ये दो चीज सोच ली है तो उसके बाद आप नेक्स्ट देख सकते हैं की इन दो चीजों से को- इनसाइड करते हुए कौन से बिजनेस इस ऑलरेडी एक्जिस्ट करते हैं किस तरह की बिज़नेस पहले से ही मार्केट में है और वो किस तरह से चल रहे हैं उनको स्टडी कीजिए आप एग्जांपल के तोर पे अगर आपको एडवेंचर स्पोर्ट्स  में बहुत मजा आता है मान  लो रिवर राफ्टिंग करने में आपको बहुत मजा आता है तो यहां पे एक चीज हो गई दूसरी चीज आप देख सकते हैं फिर की रिवर राफ्टिंग करके एडवेंचर स्पोर्ट्स करते हो आप लोगों को किस तरह से बेनिफिट्स कर सकते हैं बेनिफिट दे सकते हैं तो इसमें ए गया की आप एक एडवेंचर भारत की कंपनी खोल सकते हैं फॉर  एग्जांपल अब यह दोनों चीज सेटिस्फाई हो गई तो आप एक एडवेंचर भारत की कंपनी खोलना से पहले आप देखिए की पहले से ही किस-किस टाइप की एडवेंचर भारत की कंपनी एक्जिस्ट करती हैं इंडिया में और वो किस तरह से फंक्शन कर रहे हैं उनको स्टडी कीजिए उनको कल करके पूछी आपका बिजनेस किस तरह से चला है और उनका बिजनेस मॉडल किस तरह से है बेसिकली यह करने के बाद नेक्स्ट स्टेप है

 Make a Business Plan for 1 Year

की आप अपना एक बिजनेस प्लेन तैयार करो मान  लो अब कल से बिजनेस स्टार्ट करना चाहते हो अपना तो कल से लेकर अगले 1 साल तक जब आपका पहले साल तक जो बिजनेस चलेगा उसका पूरा बजट रिपोर्ट तैयार करो की आपको कितने पैसे लगेंगे बिजनेस को स्टार्ट करने में कितना कैपिटल और इन्वेस्टमेंट लगेगा और पूरे एक साल में क्या-क्या खर्च आएंगे और कितना प्रॉफिट बनोगे और जो आपको कैपिटल है और इन्वेस्टमेंट की जरूर होगी बिजनेस को स्टार्ट करने के लिए वो कहां से लगे आप अपने दोस्तों से बर एक बर करोगे अपने फैमिली से पैसे मांगोगे बिजनेस स्टार्ट करने के लिए या बैंक से लोन लोग यहां पर मैं रिकमेंड करूंगा की ऐसे ही business  स्टार्ट करो जिसमें आपको बैंक से लोन लेना न  पड़ेगा कोई थर्ड पार्टी से पैसे लेने की जरूर ना पड़े आप ऐसे बिजनेस स्टार्ट करो जिसमें की आपकी फैमिली अफोर्ड कर पे आपको जो इनिशियल इन्वेस्टमेंट है उसे बिजनेस की देने के लिए क्योंकि बैंक के चक्कर में पद जाओगे तो बहुत प्रॉब्लम्स पद शक्ति हैं और भारी नुकसान उठाना पढ सकता है अगर आपका बिजनेस फेल हो गया बाद में तो ऐसे ही बिजनेस सोचो जिसमें की आप खुद से अपनी इन्वेस्टमेंट कर का रहे हो इतने पैसे हैं आपके पास या फिर आपके फैमिली और फ्रेंड्स देने को तैयार है अपने पैसे ये चीज मैं शुरू शुरू के लिए रिकमेंड कर रहा हूं एक बड़ी आपका बिजनेस एस्टेब्लिश हो गया उसके बाद उसको नेक्स्ट लेवल पर ले जाने के लिए  आप लोन लेने की सोच सकते हो इस तरह से जो रिस्क है वो कम से कम रहेगा और यहां पर आप पैसे किसी से भी बोरो करो दोस्तों लेकिन जो जरूरी चीज है वो ये है की आपका जो बिजनेस प्लेन है जो बिजनेस रिपोर्ट बनाई है आपने एक साल की वो जितनी ज्यादा डिटेल हो सके उतनी ज्यादा डिटेल हो ताकि कोई भी आपके बिजनेस प्लेन को देखें तो वो भी कन्वेंस हो जाए की हां भाई ये वाला बिजनेस तो कम करेगा मतलब हम इसमें अगर पैसे लगाएंगे तो नुकसान नहीं होगा हमारा उल्टा प्रॉफिट ही निकाल के आएगा|

 RIGISTER YOUR BUSINESS.

  • अब जब आपने अपना एक साल का बिजनेस प्लेन सही तरीके से बना लिया है
  • तो हम नेक्स्ट स्टेप पे चल सकते हैं नेक्स्ट स्टेप यह है की आपके बिजनेस को गवर्नमेंट मे रजिस्टर करवाया जाए अब जी तरह का आपका बिजनेस होगा उसे पे डिपेंड करके अलग-अलग टाइप के तरीके से बिजनेस को रजिस्टर करवाया जा सकता है
  • अलग-अलग टाइप की बिजनेस एंटिटीज कहते हैं इसको जो अलग-अलग तरीके होते हैं

मैं सारे तो नहीं बताऊंगा मैं मेंन  तरीके आपको बता देता हूं क्या-क्या होते हैं

सबसे पहले सबसे पुराना और सबसे आसन तरीका आपके बिजनेस को रजिस्टर करने का है सोल प्रोपराइटरशिप प्रोपराइटरशिप एक ऐसी बिजनेस  है एक ऐसा तरीका है बिजनेस को रजिस्टर करने का जिसमें की बिजनेस के ओनर आप खुद ही हैं जो भी बिजनेस का प्रॉफिट और लॉस होगा वो आपका खुद का प्रॉफिट और लॉस होगा तो एक तरह से कहा जा सकता है की आप पर्सनली लायबल है बिजनेस के साथ जो भी हो रहा है उसमें बहुत सारे स्मॉल बिजनेस ऑनर्स इसको यूज करते हैं जैसे की कोई दुकानदार है वो अपनी दुकान को एज़ ए प्रोपराइटरशिप रजिस्टर करवाइए अगर आप एक पकोड़े वाला बन्ना चाहते हैं तो आप अपने बिजनेस को अगर प्रोपराइटरशिप रजिस्टर करवाएंगे

प्रोपराइटरशिप काफी फायदे हैं|

सबसे बड़ा इसका फायदा ये है की जो गवर्नमेंट रेगुलेशंस होती हैं जो गवर्नमेंट के रजिस्ट्रेशन करनी पड़ती हैं वो कम से कम होती हैं इसमें अपने बिजनेस को जब प्रोपराइटरशिप रजिस्टर्ड करवाने के लिए आपको अपनी लोकल अथॉरिटी के पास जाना पड़ेगा अगर आप शहर में रहते हैं

तो आपको म्युनिसिपालिटी के पास जाना पड़ेगा और अगर आप गांव में रहते हैं तो ग्राम पंचायत के पास जाना पड़ेगा कुछ शेरों में ये ऑनलाइन भी हो जाता है लेकिन हर शहर में नहीं होता है करीब-करीब हजार रुपए लगेंगे रजिस्टर करवाने के और एक से दो दिन का टाइम लगेगा की आपकी रजिस्ट्रेशन कंप्लीट हो जाए लेकिन ये ध्यान में रख के चलना की रिश्वत भी मांग सकते हैं क्योंकि आप लोकल अथॉरिटी के पास जा रहे हैं

और आपको तो हमारे देश की हालात पता ही है तो प्रिपेयर रहना अगर वो कुछ रिश्वत मांगे तो इस कम को करवाने के लिए बेसिकली ऐसे प्रोपराइटरशिप ऑफ तभी रजिस्टर करेंगे अगर आपका बिजनेस छोटा है तो आपकी कंपनी में ज्यादा लोग एंप्लॉय नहीं है चार  से ज्यादा लोग काम  नहीं कर रहे हैं आपकी कंपनी में क्योंकि अगर आपकी कंपनी बड़ी है तो बहुत रिस्की हो जाता है यहां पे मांन  लो आपकी करोड़ो की कंपनी है और उसको करोड़ का लॉस हुआ अब क्योंकि यहां पे आप पर्सनली लायबल है प्रोपराइटरशिप में तो वो आपका खुद का करोड़ का लॉस होगा

यह तो आपको चाहिए नहीं होगा इसलिए इस कैस  में आपको प्रोपराइटरशिप नहीं करनी चाहिए अगर आप खुद के प्रॉफिट और लॉस को कंपनी के प्रॉफिट और लॉस से अलग रखना चाहते हैं दोनों को एक सेपरेट लीगल एंटिटीज रखना चाहते हैं इस कैसे में और जो अलग तरीके हैं बिजनेस रजिस्टर करने के वो यूज  होते हैं इसी में अगला तरीका है OPC वन परसन कंपनी 1% कंपनी एक बिजनेस है एक रजिस्ट्रेशन का तरीका है जिसमें की आप पर्सनली लायबल नहीं है

अगर कंपनी को कुछ होता है तो कंपनी मान  लो कल को डब जाति है तो वो लोग आपके घर पे आके ये नहीं कह  सकते की अपना घर छोड़ो गाड़ी छोड़ो अपनी प्रॉपर्टी छोड़ो क्योंकि आपकी कंपनी डूब गई है उसके पैसे रिपेयर करने के लिए OPC  की रजिस्ट्रेशन कॉस्ट अराउंड 6000 रुपए लेकिन अलग-अलग स्टेट में थोड़ी ऊपर नीचे हो शक्ति है और 5 से 10 दिन लगेंगे इसकी रजिस्ट्रेशन कंप्लीट होने में और क्योंकि ये 1% कंपनी है इसमें आपको खुद की कंपनी का डायरेक्टर भी बन्ना पड़ेगा और शेर होल्डर भी बन्ना पड़ेगा जब आप अपनी कंपनी के रजिस्ट्रेशन करवा लोगे तो आपकी कंपनी का नाम मांन  लो चिकारा पफोड़े वाला है

तो रजिस्ट्रेशन के बाद ये नाम हो जाएगा चिकारा पकोड़े वाला प्राइवेट लिमिटेड और ब्रैकेट में OPC  अगला तरीका है कंपनी रजिस्टर करने का प्राइवेट लिमिटेड कंपनी सबसे बड़ा डिफरेंस इसमें यही है की इसमें मिनिमम दो शेर होल्डर होने चाहिए और मिनिमम दो डायरेक्टर्स होने चाहिए कंपनी है मैक्सिमम लिमिट इसमें शेरहोल्डर्स के 200 और 200 से ज्यादा अगर आप शेर होल्डर चाहते हैं तो आपको पब्लिक लिमिटेड कंपनी बनाना पड़ेगा तो प्राइवेट लिमिटेड कंपनी क्योंकि इसका नाम है तो वही रीजन से लिमिटेड है जी रीजन से 1% कंपनी लिमिटेड है इसमें लिमिटेड लायबिलिटी है पर्सनल आदमी की इस कंपनी की जो शेर होल्डर हैं उनकी लिमिटेड लायबिलिटी है की अगर कंपनी को कुछ हो जाता है कंपनी डब जाति है तो उसके शेरहोल्डर्स को पर्सनली वो नुकसान नहीं चुकाना पड़ेगा एक बहुत ही रिपॅटेबल और बहुत ही क्रिएटिविटी तरीका है अपने बिजनेस को रजिस्टर करवाने का अगर आप ये करवाते हो तो जो कस्टमर और क्लाइंट्स काफी कंपनी में ट्रस्ट है जो बैंक्स का कोई कंपनी में ट्रस्ट है वो बहुत ज्यादा बाढ़ जाता है अगर आपकी कंपनी पे प्राइवेट लिमिटेड प्रा एलटीडी लिखाओ कंपनी का नाम क्या और में तो बहुत से स्टार्टअप्स अपनी कंपनी को इस एन प्राइवेट लिमिटेड रजिस्टर करवाते हैं या फिर रजिस्टर करवाने की कोशिश करते हैं क्योंकि इससे जो बैंक से लोन मिलता है वो लोन मिलन आसन हो जाता है और जो सीट फंडिंग मिलती है अब स्टार्ट एब्स को जो इन्वेस्टेड पैसे लगा रहे हैं

कंपनी में वो भी मिलनी है आसन हो जाति है इसकी कॉस्ट है राउंड 7000 और आपकी कंपनी का रजिस्टर करवाने में अराउंड 5 से 10 दिन लगेंगे ओबवियसली क्योंकि ये बहुत ही ट्रबल है प्राइवेट लिमिटेड तो गवर्नमेंट की तरफ से जो रेगुलेशंस होती हैं वो भी बहुत ज्यादा बाढ़ जाति है इसमें लेकिन इस POST  में मैं आपको एक आसन तरीका बताऊंगा आपकी कंपनी को रजिस्टर करवाने का एक और कंपनी रजिस्ट्रेशन के तरीके के बड़े में मैं बात करना चाहूंगा और ये है लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप ये तब कम आता है जब आप कोई प्रोफेशनल हो किसी फील्ड में जैसे की डॉक्टर हो गए इंजीनियर हो गए या चार्टर्ड अकाउंट्स हो गए और ये तब कम आता है जब आप एक कंपनी फॉर्म करते हो एक लिमिटेड टाइम के लिए जिसको आपको बाद में डिसोल्व कर देना होता है जैसे की मां लो आप एक बिल्डर हो

और आपको एक बिल्डिंग बनानी है जिसके लिए आपने कंपनी कोली जिसमें आपने मजदूर को एम्पलाई किया इंजीनियर को एम्पलाई किया आर्किटेक्ट को एम्पलाई किया लेकिन जब वो बिल्डिंग बन गई पुरी तब आपको उसे कंपनी की कोई जरूर नहीं तो आपने उसे कंपनी को डिसोल्व कर दिया यहां पे ये लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप कम में आई है मैंने जो 4 तरीके आपको बताए हैं वो 4 मेंन  तरीके हैं आप में से ज्यादातर लोगों को वही चार  तरीके कम में आएंगे बस आप इतना जान लीजिए की अगर आप कॉरपोरेट फील्ड में डील करना चाहते हैं बड़ी-बड़ी कंपनी के साथ डील करना चाहते हैं तो प्राइवेट लिमिटेड ही प्रिफरेबल तरीका होता है और अगर आप अपना ही एक छोटा सा बिजनेस रखना चाहते हैं ज्यादा रेगुलेशंस में नहीं पढ़ना चाहते तो प्रोपराइटरशिप एक अच्छा तरीका है

चलिए दोस्तों अब आपने कंपनी रजिस्ट्रेशन करवा ली है और अब नेक्स्ट स्टेप है की आपको अलग-अलग टाइप की टैग्स रजिस्ट्रेशन करवानी है जीएसटी रजिस्ट्रेशन इसमें नंबर वन पे है अगर आपकी कंपनी का टर्नओवर 20 लाख से ऊपर है एक साल में तो आपको जीएसटी रजिस्ट्रेशन करवाने पढ़ेंगे कुछ नॉर्थ की स्टेट में मिनिमम अमाउंट 10 लाख का है और आपको तब भी करवानी पड़ेगी जीएसटी रजिस्ट्रेशन अगर आप इंपोर्ट एक्सपोर्ट में बिजनेस करते हैं या फिर स्टेट के बीच में हो रहे इंर्पोटेंस रिपोर्ट में बिजनेस करते हैं या फिर आई कॉमर्स से रिलेटेड बिजनेस करते हैं तो अगर आप इंपोर्ट एक्सपोर्ट का बिजनेस करते हैं तो आपको इंपोर्ट एक्सपोर्ट कोड रजिस्ट्रेशन भी करवानी पड़ेगी कुछ स्टेट में एक अलग टाइप का टैक्स है जिसका नाम है प्रोफेशनल टैक्स रजिस्ट्रेशन जो की आपको करवानी पड़ेगी अगर आप उन कुछ स्टेट  में रहते हैं तो अगर आपकी कंपनी में 10 से ज्यादा एम्पलाइज हैं तो आपको एम्पलाइज स्टेट इंश्योरेंस रजिस्ट्रेशन करवाने पड़ेगी और अगर आपकी कंपनी में 20 से ज्यादा एंपलॉयर्स हैं तो आपको प्रोविडेंट फंड रजिस्ट्रेशन भी करवानी पड़ेगी एक ऑप्शनल रजिस्ट्रेशन है आखरी स्टेप के तोर पे दोस्तों मैं आपको बताना चाहूंगा की कुछ चीज होती हैं जो हर साल एक बिजनेस को करनी पड़ती हैं इन्हें कहते हैं वाली मैंडेटरी कंप्लायंस सबसे पहले चीज है

  • इनकम टैक्स रिटर्न हर एक बिजनेस को इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना पड़ता है
  • साल के हैं दूसरी चीज है अकाउंटिंग ये एक बहुत ही इंपॉर्टेंट चीज है जो आपको करनी होती है और मैं कहूंगा आपको ढंग से करनी चाहिए
  • एक बैलेंस सीट होती है जिसमें आपका सर प्रॉफिट लॉस कहां खर्चा हुआ है कहां से पैसे आए हैं

कितने आए हैं इन सब की एक बहुत ढंग से बैलेंस सीट मेंटेन करके रखती होती है या तो आप इसके लिए अकाउंटेंट को हायर कर सकते हैं या फिर आप अगर एक छोटी कंपनी आपकी तो ये कम आप खुद ही कर सकते हैं जीएसटी के लिए अगर आप रजिस्टर्ड है तो आपको जीएसटी रिटर्न फाइल करना होता है मंथली और क्वार्टरली कंप्लेंट से होती है इसमें एक सेक्रेटेरिएट कंप्लेंट्स है जो आपको करनी ही पड़ेगी अगर आपकी कंपनी OPC,LLP ,PVTLTD  लिमिटेड कंपनी है तो और स्टेट्यूटरी एक ऐसी चीज है आपको करनी होगी अगर आपकी कंपनी ओपी है या फिर एक एलएलपी है जिसका Yearly टर्नओवर चालीस लाख से या उससे ज्यादा है और इन सारी yearly compliances www speed.com आपकी मदद कर शक्ति है तो दोस्तों अब आप तैयार हो एक entrepreneur बननेके लिए और अपना खुद का बिजनेस स्टार्ट करने के लिए  अब आप तैयार है  हम मिलेंगे अगले पोस्ट  धन्यवाद|

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Keith Urban Performed One of His Biggest Hits Like We’ve Never Heard Before on The Voice Finale YouTube mom who gave parenting advice, Ruby Franke, pleads guilty in child abuse case Eagles QB Jalen Hurts (illness) downgraded to questionable vs. Seahawks IPL 2024 Auction: पहली बार महिला करेगी खिलाड़ियों की नीलामी, Supreme Court’s decision on Article 370 not God’s verdict: Mehbooba Mufti Sandeep Maheshwari and Vivek Bindra Controversy Explained |